Media Object

जलतरंग, उपन्यास (2016)

संभवतः यह हिन्दी का पहला ऐसा उपन्यास है जिसके आख्यान के केन्द्र में भारतीय शास्त्रीय संगीत को पूरी परंपरा अपने अनेक वादी, संवादी और विवादी स्वरों के साथ मौजूद है। भारतीय इतिहास के साथ संगीत में आये परिवर्तनों और संगीत के नवोन्मेष के बीच आन्तरिक रिश्तों की पड़ताल भी संतोष करते चलते हैं ...

More Details...

Media Object

नौ बिन्दुओं का खेल

..............................................................................................................................

More Details...

Media Object

उपन्यास की नई परंपरा, आलोचना (2011)

कला को विचारधारा में तब्दील नहीं किया जा सकता, बस उसका विचारधारा से एक निश्चित संबंध होता है। विचारधारा असल में ऐसे काल्पनिक तरीकों का चयन करती है जिनके माध्यम से आदमी वास्तविक विश्व को अनुभव करता है...

More Details...

Media Object

आख्यान का आंतरिक संकट, आलोचना (2011)

जिन दो चीजों ने आज के यथार्थ की पहचान को मुश्किल बनाया है वे हैं सूचना और जानकारी का विस्फोट तथा जीवन की बढ़ी या बढ़ती हुई गति। अचानक हमें लगने लगा है जैसे जीवन को जानने पहचानने की जो हमारी शक्तियाँ थीं, ...

More Details...

Media Object

इस अ-कवि समय में, कविता संग्रह (2010)

‘रेस्त्रां में दोपहर’ तथा ‘हल्के रंग की कमीज’ जैसे कहानी-संग्रह तथा ‘राग केदार’ और ‘क्या पता कॉमरेड मोहन’ जैसे उपन्यास लिखकर चर्चा में आए कथाकार संतोष चौबे मूलतः कवि हैं...

More Details...

Media Object

कोना धरती का, कविता संग्रह (2010)

हवा, पानी, आकाश, धरती, प्रेम, विज्ञान, विकास.... इन सारे शब्दों का अर्थ होना चाहिये जिंदगी। संतोष की कविताओं के अर्थ जिंदगी में खुलते हैं। ये कविताएँ संवेदन भरा...

More Details...

Media Object

लेखक और प्रतिबद्धता (फ्रेडरिक जेमसन तथा ओडिसस इलाइटिस के निबंधों का अनुवाद) (2008)

‘प्रगतिशील’ कला क्या होती है, यह एक ऐतिहासिक प्रश्न है। और हठवादिता के साथ संपूर्ण कालावधि के लिए उसे नहीं...

More Details...

Media Object

माॅस्को डायरी (वाॅल्टर बेंजामिन के निबंधों का अनुवाद) (2008)

जब तक मैं माॅस्को की नदियों, उसकी ऊँचाइयों और उसके लैण्डस्केप को नहीं खोज पाया था तब तक हर रास्ता मुझे एक नदी की तरह लगता था। घरों पर पड़े हुए नम्बर त्रिकोणमिति के चिह्में की तरह नज़र आते थे ...

More Details...

Media Object

क्या पता काॅमरेड मोहन, उपन्यास (2007)

उपन्यास की सहज प्रवाहमयी भाषा उपन्यास को एक बार में पढ़ने को बाध्य करती है। इस तरह के वैज्ञानिक दृष्टि संपन्न, वैमर्शिक उपन्यासों का हिन्दी में आना एक सुखद

More Details...

Media Object

प्रतिनिधि कहानियाँ, कहानी संग्रह (2005)

संतोष की इन कहानियों में एक किस्म का क्रीड़ा भाव लगभग केंद्रीय रूप से मौजूद है। वाग्वैदग्ध्य और विडम्बनाओं को पकड़ने की इनमें अद्भुत क्षमता है।

More Details...

Media Object

रेस्त्रां में दोपहर, कहानी संग्रह (2000)

संतोष की कहानियों में एक किस्म का क्रीडा भाव लगभग केन्दीय रूप से मौजूद है. वाग्वैदग्ध्य और विडम्बनाओं को पकड़ने की इनमें अद्भुत क्षमता है. इनके आख्यान में एक खास तरह का अंदाज है |

More Details...

Media Object

कला की संगत (1995)

मेरे लिये साहित्य और कला की संगत एक निष्क्रिय कर्म नहीं। वह सक्रिय रूप में अपने आसपास को, अपने मित्र रचनाकारों को और अपने समय को समझना है और यह प्रक्रिया मेरे मन में निरंतर जारी रहती है। इसमें व्यक्ति-रचनाकार की भी महत्वपूर्ण भूमिका है क्योंकि रचना तो वही कर रहा है।

More Details...

Media Object

हल्के रंग की कमीज़, कहानी संग्रह (1992)

चूँकि प्रस्तुत कहानी - संग्रह में एक कवि की कहानियाँ संग्रहीत है इसलिए प्रसंगवश कहना होगा कि कुछ अपवादों को छोड़कर हिन्दी की वे कहानियाँ ज़्यादा अच्छी है जो कवियों ने लिखी है। यह अलग बात है कि उन्हें समझने और समझाने का काम आलोचना ने नहीं किया, न ही पेशेवर कहानीकारों ने उन्हें सराहा।

More Details...

Media Object

राग केदार, उपन्यास (1990)

राग केदार अपनी संरचना में इसलिए दिलचस्प भी कि इसमें उपन्यास का अत्यन्त प्रचलित और परिचित ढाँचा नहीं है और ना ही कोई सायास अर्जित की गई प्रयोगधर्मिता। यह एक व्यक्ति के चरित्र और उसके जीवन के लूज़ पेपर्स की तरह है। इसमें बयान है, डायरियाँ है और संस्मरण है।

More Details...

Media Object

अपने समय में (2014)

बीसवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में विश्व में तीन बड़ी घटनाएँ हुई हैं। एक, सोवियत साम्राज्य का पतन जिसे वामपंथी विचारधारा और समाजवादी स्वप्न तथा दृष्टि के अंत के रूप में देखा जा रहा है, दो, इस्लामी आतंकवाद का उदय जिसे सभ्यताओं के टकराव के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है |

More Details...

Media Object

वनमाली समग्र (2013)

मैं कहानी में सब बातें छोड़ने को तैयार हूँ पर उसमें इंटेंसिटी और ड्रामैटिक एलीमेंट का होना मैं बहुत लाजिम समझता हूँ। शायद ये दो चीजें ही कहानी की टेक्नीक की जान हैं। मैं यह नहीं कहता कि

More Details...

Media Object

वनमाली समग्र सृजन(2013)

मैं कहानी में सब बातें छोड़ने को तैयार हूँ पर उसमें इंटेंसिटी और ड्रामैटिक एलीमेंट का होना मैं बहुत लाजिम समझता हूँ। शायद ये दो चीजें ही कहानी की टेक्नीक की जान हैं। मैं यह नहीं कहता कि

More Details...

Media Object

वनमाली समग्र,स्मृति दो खंडों में (2011)

मैं कहानी में सब बातें छोड़ने को तैयार हूँ पर उसमें इंटेंसिटी और ड्रामैटिक एलीमेंट का होना मैं बहुत लाजिम समझता हूँ। शायद ये दो चीजें ही कहानी की टेक्नीक की जान हैं। मैं यह नहीं कहता कि ..

More Details...

Website counter